Best Web Blogs    English News

facebook connectrss-feed

Mera Blog

Just another weblog

16 Posts

206 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

आधुनिकता की परिभाषा

पोस्टेड ओन: 31 Jan, 2011 Uncategorized में

आधुनिकता का नाम आते ही हमारे मन में जीन्सधारी एक ऐसे युवक अथवा युवती की तस्वीर उभरती है जो धाराप्रवाह अंग्रेजी बोलता हो. यदि आपकी सोच ऐसी है तो मेरे विचार से आप गलत है.आप भी मार्केटिंग के शिकार हो गए हैं. जिसप्रकार पैकिंग को दिखा कर दुकानदार सामान बेच देता है. उसीप्रकार बाहरी चमक-धमक दिखाकर आपके सामने कोई भी अपनी इमेज बना सकता है. मैंने अक्सर लोगों को कहते सुना है कि हमारा बच्चा तो बहुत माँर्डन है वह धाराप्रवाह अंग्रेजी बोल लेता है.
आधुनिकता की परिभाषा में मै अंग्रेजी को १०० में से १० नम्बर ही दूंगी. अंग्रेजी एक भाषा है और अभिव्यक्ती का माध्यममात्र है.आधुनिक होने के लिए निम्न बातों का ध्यान रखनाजरूरी है:-
१.आपने अपने विचारों को सुदृढ करने के लिए कितनी मेहनत की है और प्रतिदिन क्या आप नया सीखते हैं.
२.आपमें नया सीखने की कितनी क्षमता है.
३. आप समय के साथ अपने में कितना बदलाव कर सकते हैं.
४.आपको नई तकनीकों की कितनी जानकारी है.
५.यदि आपके सामने गरमागरम बहस छिड जाए तो आपकी उस बहस में कितनी भागीदारी होगी?
६.आपका सामान्य ज्ञान कितना अच्छा है.
७.आपको राजनीति की (चाहे वह देश की हो या विदेश की)कितनी जानकारी है.
८.आप समाचार पत्र नियमित रूप से पढते हैं या नहीं. यदि पढते हैं सम्पादकीय पेज भी पढते हैं या सिर्फ क्राईम पढकर रख देते हैं.
९.आपको आधुनिक तकनीकी की कितनी जानकारी है.
१०.न्यूज चैनल आप देखते हैं या सिर्फ सीरियल ही देखते हैं.
११.अक्सर एक निश्चित उम्र के बाद बहुत से लोग अपने भूतकाल में जीने लगते हैं. यह आदत यथासंभव त्याग दे और वर्तमान में जिये.
१२. पहनावे को भी में १०० में से ५ नम्बर दूंगी.
पहनावा आधुनिक हो या परंपरागत, शालीन होना चाहिए.
निरंतर बदलते रहने का नाम ही जिंदगी है.आप अपने आपको जितना भी बदल पाते हैं उतनी ही ख़ूबसूरती से आप अपनी जिदगी जी सकते हैं.आप अपनेआपको जितना ज्यादा बदलने को तैयार हैं उतने ही ज्यादा आप आधुनिक हैं.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

30 प्रतिक्रिया

  • Share this pageFacebook0Google+0Twitter2LinkedIn0
  • SocialTwist Tell-a-Friend

Similar articles : No post found

Post a Comment

*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Manish Singh "गमेदिल" के द्वारा
February 2, 2011

आधुनिकता की परिभाषा – एक ज्ञानवर्धक लेख ……………. आलेख के लिए धन्यवाद

    Preeti Mishra के द्वारा
    February 2, 2011

    धन्यवाद मनीषजी

Satish Mishra के द्वारा
February 1, 2011

Well written article. I hope that people will understand and practice it positively to take its advantage.

    Preeti Mishra के द्वारा
    February 1, 2011

    Thanx Satishjee.

Tufail A. Siddequi के द्वारा
February 1, 2011

HELLO PREETI JI, HOW ARE U ? VERY NICE AND IMPORTANT POST. CONGRATULATION.

    Preeti Mishra के द्वारा
    February 1, 2011

    I m fine,u say? thanx a lot.

nishamittal के द्वारा
February 1, 2011

आधुनिक बनाने के बिन्दु बताने का धन्यवाद.

    Preeti Mishra के द्वारा
    February 1, 2011

    प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद निशाजी.

Piyush Pant, Haldwani के द्वारा
January 31, 2011

आधुनिक बनाने के कुछ बेहतरीन बिन्दु आपने प्रस्तुत किए………. आशा है कुछ लोग इससे लाभान्वित भी हों……….. क्योकि आजके माहौल के अनुसार ये जरूरी लागने लगा है……

    Preeti Mishra के द्वारा
    February 1, 2011

    धन्यवाद पीयूषजी.

drsinwer के द्वारा
January 31, 2011

प्रीती जी अपने जो कहा वो भी सब सही है और आजकल के नवयुवक और युवाकियाँ मोर्डन जमाने मे जीने वाले है . वो कहते है न की बिगड़ी का नाम फैसन है यही हो रहा है . अपने बहुत अच्छा ब्लॉग लिखा . आपको बधाई

    Preeti Mishra के द्वारा
    February 1, 2011

    धन्यवाद

Amit Dehati के द्वारा
January 31, 2011

प्रीती जी बहुत ही ज्ञानवर्धक लेख ……. प्रीती जी परिवर्तन ही संसार का नियम …….हमें खुद को बदलने की जरुरत नहीं प्रकृति हमें उपडेट करते रहती है …..ध्यान देने वाली बात है की प्रकृति का सहयोग करें न की जबरदस्ती ……. धन्यवाद

    Preeti Mishra के द्वारा
    February 1, 2011

    धन्यवाद अमितजी

rajkamal के द्वारा
January 31, 2011

आदरणीय प्रीति जी ….. सादर अभिवादन ! आपने जो लिस्ट प्रस्तुत की है उसके अनुसार चलने पर व्यक्तित्व में आंतरिक परिवर्तन होने लाज़मी है ….इस लिहाज से मैं आपके इस लेख को बेहतरीन कहूँगा …. वैसे मैं उपदेश ही दिया करता हूँ , खुद अम्ल कम करता हूँ …..फिर भी कोशिश जारी रहेगी … आपका आभारी

    Preeti Mishra के द्वारा
    February 1, 2011

    राजकमलजी, आपकी सबसे अच्छी बात जो मुझे लगती है कि आप आत्मनिरीक्षण करते हैं और आत्मसुधार की कोशिश करते रहते हैं. हम आप सबमें अच्छाई और कमी दोनों होती है, हम अच्छाई तो सुनना चाहते हैं लेकिन कमी नहीं सुनना चाहते. जो अपनी कमी स्वयं देखे वह मेरी नज़र में महान होता है. प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद.

Alka Gupta के द्वारा
January 31, 2011

प्रीती जी , बहुत सही परिभाषा दी है पहनावे के साथ साथ अपने विचारों में भी परिवर्तन बहुत जरूरी है….समय के साथ हर इंसान को बदलाव की आवश्यकता है जीवन मूल्यों व अपनी संस्कृति को समझते हुए…! अच्छे लेख के लिए बधाई !

    Preeti Mishra के द्वारा
    February 1, 2011

    धन्यवाद अल्काजी

roshni के द्वारा
January 31, 2011

प्रीती जी आधुनिकता की ये परिभाषा बिलकुल सटीक है .. आजकल यु भी लोग आधुनिक होने का ढोंग करते है भीतर से रहते है वही पुराने …….. ऊपर दिए गए बदलाव खुद में अगर लाये जाये तो ही हम आधुनिक है मतलब समय के साथ चलने वाले ……. आभार

    Preeti Mishra के द्वारा
    February 1, 2011

    धन्यवाद रोशनीजी

rktelangba के द्वारा
January 31, 2011

प्रीती जी आधुनिकता की आप की परिभाषा से मैं सहमत हूँ. आज के अधिकांश युवा वर्ग फैशन की अन्धाधुंध नकल को और भेडचाल को आधुनिक होना मानते हैं. सही मायने में आधुनिक होने का मतलब है असलियत को जानना ! अखबार पढ़ कर या न्यूज़ देख कर आँखे बंद कर के मान लेना भी आधुनिकता नही है. मीडिया कोई आसमान से उतरी हुयी किताब तो है नही कि जो दिखाया , सुनाया या पढाया जा रहा है वो सब सत्य है. सही और गलत में फर्क जानना , सच और झूठ में अंतर जानने की क़ाबलियत ही आधुनिक होने का प्रमाण है ..!!! R K Telangba

    Preeti Mishra के द्वारा
    January 31, 2011

    सही कहा आपने,कुछ चैनल ख़बरों को बढ़ा-चढा कर पेश करते है. प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद.

abodhbaalak के द्वारा
January 31, 2011

आपने एक नयी परिभाषा दी है आधुनिकता की जिस से कुछ लोग संभवतः सहमत नहीं होंगे…. ये तो सच है की केवल अच्छी इंग्लिश आधुनिकता की पहचान नहीं हो सकती… ज्ञानवर्धक लेख. http://abodhbaalak.jagranjunction.com

    Preeti Mishra के द्वारा
    January 31, 2011

    धन्यवाद अबोधजी

deepak pandey के द्वारा
January 31, 2011

सही कहा प्रीति जी खुद को अद्यतन करना हर क्षेत्र में वही आधुनिकता की निशानी है. पर ज्यादातर लोग अब भी वही पुरानी परिभाषा पाल के रखे हुए है जो अपने लेख की शुरुआत में कही. बदलाव वास्तव में समय के साथ होनी चाहिए पर शालीनता के साथ ..

    Preeti Mishra के द्वारा
    January 31, 2011

    धन्यवाद दीपकजी

vinita shukla के द्वारा
January 31, 2011

अच्छा लेख प्रीती जी. समय की धडकन के साथ जुड़े रहना जरूरी है. बदलाव अच्छा है बशर्ते वह बदलाव शुभ हो , ऐसा बदलाव जिसके लिए अपनी मूल पहचान और अपनी विरासत को खोना न पड़े. आधुनिक बनने में कोई बुराई नहीं, यदि नये और पुराने मूल्यों के बीच संतुलन बरक़रार रखा जाए.

    Preeti Mishra के द्वारा
    January 31, 2011

    बिल्कुल सही कहा आपने नए और पुराने मूल्यों के बीच संतुलन बनाये रखना भी जरूरी है. धन्यवाद आपकी प्रतिक्रिया के लिए.

Dharmesh Tiwari के द्वारा
January 31, 2011

प्रीती मिश्रा जी,एक जबरदस्त परिभाषा सबके बिच रख्खा है आपने आधुनिकता का,हकीकत में माडर्न वही है जो हर मामले में बखूबी फिट है,धन्यवाद!

    Preeti Mishra के द्वारा
    January 31, 2011

    धन्यवाद धर्मेशजी.




  • ज्यादा चर्चित
  • ज्यादा पठित
  • अधि मूल्यित